Homeसक्सेस स्टोरीनौकरी छोड़, मिलेट यात्रा शुरू: IITian की 2.5 करोड़ की रेवेन्यू की कहानी!

नौकरी छोड़, मिलेट यात्रा शुरू: IITian की 2.5 करोड़ की रेवेन्यू की कहानी!

Date:

Share post:

साई कृष्णा पोपुरी ने अपने डायबिटिक पिता के लिए उपयुक्त मिलेट उत्पाद ना पा सकने के कारण, Health Sutra नामक मिलेट-आधारित ब्रांड की स्थापना की है। इस ब्रांड का उद्देश्य सुपरफूड को स्वादिष्ट बनाना और लोगों तक पहुंचाने में सुधार करना है।

मेरे घर में, जब भी हम में से कोई बीमार पड़ता है, हम अपने अनस्वस्थ आहार पर चर्चा करते हैं। यह बातचीत माँ की ऊर्जा से भरी होती है, जोने अपने आहार में ज्वार, बाजरा, और रागी जैसे सुपरफूड को शामिल किया हैं।

स्वस्थ और दीर्घकालिक जीवन के लिए

मिलेट्स को विश्वभर में सुपरफ़ूड के रूप में मान्यता प्राप्त हो रही है, और 2023 में भारत सरकार ने इसे “मिलेट्स का वर्ष” घोषित किया है। इसके बावजूद, कई मिलेट्स की विभिन्न प्रविधियों की सीमित उपलब्धता के कारण एक चुनौती पैदा हो रही है, और इसी चुनौती का सामना करते हुए Health Sutra ने विभिन्न प्रकार के मिलेट उत्पादों का संग्रह प्रदान किया है।

millet-based startup called Health Sutra.

साई ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली से इंजीनियरिंग पूरी की और एक कॉर्पोरेट नौकरी करने के बाद वेंचरशिप का मैदान में कदम रखा। उन्होंने अपनी खोज में मिलेट्स की महत्वपूर्णता को समझकर Health Sutra की स्थापना की, जिससे लोगों को स्वस्थ और सुपरफूड विकल्प उपलब्ध हो सकें।

साई के पिताजी के डायबिटिक रोग के निदान के बाद, उन्हें डॉक्टर ने गेहूं, ओट्स, या क्विनोआ जैसे उत्तम आहार के लिए सुझाव दिया। इसके बाद साई ने यह सवाल उठाया कि क्यों न कुछ ऐसा चुना जाए जो हमारी स्थानीय भूमि से जुड़ा हो। उनकी खोज में, उन्होंने एक रिश्तेदार से मिलकर मिलेट्स की महत्वपूर्णता को समझा और Health Sutra की शुरुआत की।

millet products suitable for his diabetic

Health Sutra ने विभिन्न प्रकार के मिलेट उत्पादों को लोगों के लिए प्रदान किया है, जैसे कि जोवार फ्लेक्स, मिलेट म्यूसली, और मिलेट इडली रवा प्री-मिक्स। ब्रांड ने हजारों उत्पादों की बिक्री की है और सफलता के साथ साहसिक रूप से 2.5 करोड़ रुपये की आय हासिल की है, जिससे एक सामृद्ध और स्वस्थ समाज की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ा।

साई कृष्ण पोपुरी ने अपने उद्यमी जीवन के माध्यम से सुपरफूड को आम लोगों तक पहुंचाने के सपने को पूरा किया है, जिससे उन्होंने स्वस्थ और दीर्घकालिक जीवन के लिए एक योजना बनाई है।

Related articles

बांस व्यवसाय की सफलता राष्ट्रभर से आ रहे भरपूर आदेश

बिहार के पूर्णिया जिले के माँ-बेटे आशा अनुरागिनी और सत्यम् सुंदरम् ने पर्यावरण प्रेम के साथ बांस व्यापार...

हरियाणा में नई राह पहली महिला ड्रोन पायलट द्वारा किसानों की तकदीर में तकनीकी क्रांति

रसोई से लेकर बच्चों की शिक्षा तक, सब कुछ आधुनिक हो चुका है। इस समय, खेती के क्षेत्र...

जीवन में बुरी परिस्थितियां है इंसान को मजबूत बनाती है कुछ ऐसी कहानी है कमल कुंभार की

आधुनिक भारत की कहानी: चूड़ियों की कहानी एक समय था, जब एक साधारण गाँव की लड़की, कमल कुंभार, सिर्फ...

ऑटो रिक्शा चालक के बेटे ने रचा इतिहास! पहले ही प्रयास में बने देश के सबसे युवा IAS अधिकारी, प्रेरणादायक है इनकी कहानी!

अंसार शेख नाम का एक युवक, जिन्होंने अपनी लगन और कड़ी मेहनत से ना सिर्फ सपनों को उड़ान...