Homeसक्सेस स्टोरीखुद सातवीं के बाद नहीं जा पाए थे स्कूल, अब 6500 बच्चों को शिक्षित कर रहें मामून

खुद सातवीं के बाद नहीं जा पाए थे स्कूल, अब 6500 बच्चों को शिक्षित कर रहें मामून

Date:

Share post:

कभी-कभी मुश्किल हालत इंसान को इतना मजबूत बना देते हैं कि वह अपने साथ-साथ दूसरों के लिए भी उदाहरण बन जाता है। कोलकाता के मामून मलिक की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। मामून कोलकाता में Samaritan Help Mission school नाम से चार इंग्लिश मीडियम स्कूल चला रहे हैं। उनका यह स्कूल खास करके उन बच्चों के लिए जिनके परिवार के पास दो वक़्त के खाने के पैसे भी बड़ी मुश्किल से आ पाते हैं।

इस स्कूल को शुरू करने की प्रेरणा मामून को अपने जीवन के अनुभवों से मिली थी। एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले मामून पढ़ने में कभी तेज़ थे लेकिन आर्थिक कारणों के कारण उनको सातवीं के बाद स्कूल छोड़ना पड़ा था। उस समय उनके परिवार के पास स्कूल की फीस देने के पैसे नहीं थे। 

हालांकि उनका स्कूल तो छूट गया लेकिन पढ़ाई नहीं, उन्होंने अपनी घर पर रहकर कुछ बच्चों को पढ़ाना शुरू किया और  घर में रहकर बारहवीं तक की शिक्षा हासिल की। 

Related articles

IAS सफलता कहानी: चंद्रज्योति सिंह की 2019 में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में 28वीं रैंक हासिल करके IAS बनने

चंद्रज्योति सिंह ने 2019 में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में 28वीं रैंक हासिल करके IAS बनने का सपना...

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा 2018 में, पूज्य प्रियदर्शनी ने देश भर में...

सफलता की उड़ान :मुजफ्फरपुर के कुमार सात्विक ने अपने पहले ही प्रयास में UPSC CAPF में 191वीं रैंक हासिल प्राप्त की

मुजफ्फरपुर के निवासी, कुमार सात्विक ने अपने पहले ही प्रयास में UPSC CAPF (Central Armed Police Forces) परीक्षा...

जगन्नाथ यात्रा: भक्ति और समर्पण का महापर्व

जगन्नाथ यात्रा, जिसे हिंदी में जगन्नाथ रथ यात्रा भी कहा जाता है, भारतीय हिंदू समाज में एक प्रमुख...