Homeराजनीतिअभिनव बिन्द्रा: जिद और जुनून ने दिलाया गोल्ड

अभिनव बिन्द्रा: जिद और जुनून ने दिलाया गोल्ड

Date:

Share post:

ओलम्पिक में भारत को गोल्ड मेडल मिलने से हर भारतवासी खुशी से झूम उठा। बिन्द्रा की ज़िद और जुनून ने उन्हें इस मुकाम पर पहुँचाया है। बैंकॉक में हुए वर्ल्ड शूटिंग चैम्पियनशिप में बिन्द्रा की टीममेट रहीं इण्टरनेशनल शूटर श्वेता चौधरी ने कहा कि बिन्द्रा ने जो कहा, वह कर दिखाया। श्वेता मामूली अन्तर से ओलम्पिक टीम में जगह बनाने में नाकाम रहीं। श्वेता ने बताया कि बिन्द्रा ओलम्पिक गोल्ड के लिए पिछले चार साल से अनवरत मेहनत कर रहे थे। बिन्द्रा ने जो कहा, वह कर दिखाया।

ऐसे बदली दुनिया, श्वेता बताती हैं कि एथेन्स ओलम्पिक के बाद अभिनव के व्यवहार में चेन्ज आया। एथेन्स ओलम्पिक में पदक हासिल न करने के बाद ही उन्होंने निश्चय कर लिया था कि वह अगला मौका (बीजिंग ओलम्पिक) नहीं गंवाएँगे। एक स्मरण सुनाते हुए श्वेता ने कहा कि बैंकॉक में वर्ल्ड चैम्पियनशिप के दौरान जब भारतीय टीम के अन्य शूटर शाम को शहर घूमने गए थे, बिन्द्रा जिम में एक्सरसाइज कर रहे थे। शायद अभिनव को एथेन्स ओलम्पिक में पदक नहीं जीतने का सदमा ऐसा लगा कि उनके व्यवहार में काफी परिवर्तन आ गया। उसके बाद से वह रिजर्व रहने लगे। इसके पहले वह साथियों के बीच आकर हँसी-मजाक करते थे। इसके बाद वह लगातार विदेशों में जाकर प्रैक्टिस करते रहे।

Related articles

बांस व्यवसाय की सफलता राष्ट्रभर से आ रहे भरपूर आदेश

बिहार के पूर्णिया जिले के माँ-बेटे आशा अनुरागिनी और सत्यम् सुंदरम् ने पर्यावरण प्रेम के साथ बांस व्यापार...

हरियाणा में नई राह पहली महिला ड्रोन पायलट द्वारा किसानों की तकदीर में तकनीकी क्रांति

रसोई से लेकर बच्चों की शिक्षा तक, सब कुछ आधुनिक हो चुका है। इस समय, खेती के क्षेत्र...

जीवन में बुरी परिस्थितियां है इंसान को मजबूत बनाती है कुछ ऐसी कहानी है कमल कुंभार की

आधुनिक भारत की कहानी: चूड़ियों की कहानी एक समय था, जब एक साधारण गाँव की लड़की, कमल कुंभार, सिर्फ...

ऑटो रिक्शा चालक के बेटे ने रचा इतिहास! पहले ही प्रयास में बने देश के सबसे युवा IAS अधिकारी, प्रेरणादायक है इनकी कहानी!

अंसार शेख नाम का एक युवक, जिन्होंने अपनी लगन और कड़ी मेहनत से ना सिर्फ सपनों को उड़ान...