Homeमनोरंजनछोले भटूरे ने कैसे तय किया इतिहास का सफर?

छोले भटूरे ने कैसे तय किया इतिहास का सफर?

Date:

Share post:

दिल्ली और छोले भटूरे के बीच एक ऐसा रोमांस है, जो शायद कहीं और देखने को नहीं मिल सकता। हर साल, जैसे ही राजधानी में कड़ाके की ठंड पड़ती है, सैकड़ों लोग खुद को गर्म रखने के लिए अपने पसंदीदा मसालेदार छोले के कटोरे और तली हुई पूरियों की ओर रुख करते हैं।

छोले भटूरे के हमारे यहां तक पहुंचने से जुड़े कई किस्से व कहानियां हैं और हर प्रेम कहानी की तरह इस कहानी में भी कई उतार चढ़ाव हैं।

लेकिन इससे पहले कि हम उन कहानियों की चर्चा करें, जो नहीं जानते वे जान लें कि आखिर छोले भटूरे है क्या?

दिल्ली के हर गली-सड़क में छोले-भटूरे बिकते दिख जाएंगे। इस स्वादिष्ट व्यंजन का मज़ा लेने के लिए हर रोज़ सैकड़ों लोग कतार में खड़े होते हैं और अपनी बारी का इंतजार करते हैं। इस व्यंजन में दो चीजें होती हैं, एक मसालेदार काबुली चने के छोले और दूसरा भटूरा, एक तरह की मैदे की तली हुई पूरी। दोनों की जोड़ी को कहा जा सकता है कि यह सीधे स्वर्ग से बन कर आई है। 

Related articles

IAS सफलता कहानी: चंद्रज्योति सिंह की 2019 में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में 28वीं रैंक हासिल करके IAS बनने

चंद्रज्योति सिंह ने 2019 में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में 28वीं रैंक हासिल करके IAS बनने का सपना...

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा 2018 में, पूज्य प्रियदर्शनी ने देश भर में...

सफलता की उड़ान :मुजफ्फरपुर के कुमार सात्विक ने अपने पहले ही प्रयास में UPSC CAPF में 191वीं रैंक हासिल प्राप्त की

मुजफ्फरपुर के निवासी, कुमार सात्विक ने अपने पहले ही प्रयास में UPSC CAPF (Central Armed Police Forces) परीक्षा...

जगन्नाथ यात्रा: भक्ति और समर्पण का महापर्व

जगन्नाथ यात्रा, जिसे हिंदी में जगन्नाथ रथ यात्रा भी कहा जाता है, भारतीय हिंदू समाज में एक प्रमुख...