Homeएजुकेशन & जॉब42 की उम्र में गृहिणी से बनीं किसान, अब मिलेट उगाकर कर रहीं लाखों का कारोबार

42 की उम्र में गृहिणी से बनीं किसान, अब मिलेट उगाकर कर रहीं लाखों का कारोबार

Date:

Share post:

रायपुर की कविता देव आज मिलेट माँ के रूप में जानी जाती हैं। वह 12 एकड़ के खेतों में न सिर्फ फल-सब्जियां और मिलेट्स उगा रही हैं, बल्कि इनसे ढेरों प्रोडक्ट्स भी बना रही हैं। 

लेकिन एक आम गृहिणी से मिलेट माँ बनने तक का उनका सफर हम सबके लिए प्रेरणा है। दरअसल, कविता अपने बच्चों को हेल्दी खाना खिलाने और उनके स्वास्थ्य का ख्याल रखने के प्रति काफी सजग थीं। वह हमेशा बच्चों को ताज़ा सब्जियों का जूस और मौसमी सब्जियां खिलाने पर जोर देती थीं। लेकिन एक दिन उन्हें पता चला कि जिसे वह हेल्दी समझ रही थीं, वह एक तरह से जहर है। 

हुआ यूँ कि एक दिन, रोज की तरह उन्होंने अपने बच्चों के लिए सब्जियों का जूस बनाया लेकिन उनके बच्चों ने जूस पीने के बजाय उसे छुपा कर स्कूल चले गए। कविता ने जब शाम को भरा हुआ जूस का गिलास देखा तो उन्हें उसमें एक तेल कि परत नजर आई। कविता को आश्चर्य हुआ और पता लगाने पर उन्हें मालूम चला यह तेल नहीं केमिकल है जो सब्जियों में ही मौजूद था। 

spot_img

Related articles

श्रीगंगानगर की पौरवी गुप्ता ने चौथे प्रयास में UPSC सिविल सेवा परीक्षा में सफलता प्राप्त की है, जिससे उन्होंने 213वीं रैंक हासिल की

इस उपलब्धि के साथ उनका चयन भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) के लिए हुआ। पौरवी के माता-पिता, राधेश्याम गुप्ता...

अनोखे सफर Coke Studio Bharat में उभरते इन सिंगर्स की कहानियाँ

यूट्यूब पर 'सोनचढ़ी' नामक कोक स्टूडियो भारत का गाना लगातार ट्रेंड कर रहा है, और इसकी चर्चाएं सोशल...

आगे बढ़ने के लिए बस एक प्रेरणा है जरूरी बड़ोदरा में एक छोटे से व्यापार की बेटी बनी दसवीं की टॉपर

एक छोटे पानीपूरी बेचने वाले व्यापारी की बेटी ने 99.72 प्रतिशत प्राप्त किए हैं।" वड़ोदरा में पिछले 25...

अनाथालय से IAS अफसर तक: एक अनोखी कहानी

यह कहानी IAS अफसर अब्दुल बी नासर के बारे में है, जिन्होंने 13 साल तक केरल के अनाथालयों...